Saturday, February 28, 2009

मुक्त्तक/ muqtak

रात में परछाइयो से अटखेलिया करने लगे है
कभी इस पेड़ पर कभी उस पेड़ पर,
जिस पेड़ से मिला फल वो उसे चखने लगे है
खुदा का खौफ भी अब उन्हें लगता नही
पर आईने के सामने जाने से वो डरने लगे है ...


raat mein parchaiyon se atkheliyan karne lage hain
kabhi iss ped  par kabhi us ped par 
jis ped se mila fal vo use chakhne lage hain
khuda ka khauf bhi ab unhe lagta nahi
par aayeene ke saamne jaane se vo darne lage hain
Post a Comment