Monday, March 2, 2009

आँख/ aankh

तुम्हारी आँख के सदके, हमे कितना सताती है
कभी हमको हंसाती हैं , कभी हमको रुलाती है
इन्हे गर भूलना चाहूँ तो ऐसा कर नही सकता
जिधर भी देखती है ये, जादू अपना चलाती है



tumhari aankh ke sadke, humein kitna satatin hain 
kabhi humko hansati hain, kabhi humko rulati hain
inhe gar bhoolna chahoon toh aisa kar nahi sakta
jidhar bhi dekhti hain ye, jaadoo apna chalati hain 
Post a Comment