Wednesday, October 28, 2009

उम्मीद के बादल.../ ummeed ke badal...

उम्मीद के बादल ये , लगते सुहाने हैं
विश्वास के अम्बर पे , चादर सी ताने हैं 


एक झोंका हवा का जब चादर को उडाता है 
रह जाते हम खाली, जैसे बर्तन पुराने हैं


इस गम का बसर कितना बेजान सी चीजों में
सोने के महल हैं ये , लगते वीराने हें


आंखों का पानी भी नमकीन नही लगता
बरसों से नही देखा , हम जिसके दीवाने हैं


शीशे के शहर में महफूज नही शायद
वो फूल के बदले में , पत्थर क्यो ताने हैं ?


इस राह में पग-पग पर धोखा और छलावा हैं
कुछ हमने खाएं हैं , कुछ तुमको खाने हैं ....


ummeed ke ye badal, bade lagte suhaane hain
vishwas ke ambar mein, chadar si taane hain


ek jhoka hawa ka jab chadar ko udata hai 
rah jaate hain hum khaali jaise bartan purane hain


iss gam ka basar kitna bejaan si cheezon mein
sone ke mahal hain ye, lagte viraane hain


aankhon ka paani bhi namkeen  nahi lagta 
barson se nahi dekha, hum jiske diwaane hain


sheese ke shahar mein hum mahfooz nahi shayad
vo phool ke badle mein, pathar kyu taane hain


iss raah mein pag pag par dhokha aur chalawa hai
kuch hamne khaye hain, kuch tumko khane hain 



Post a Comment