Tuesday, December 1, 2009

हाँ मै तवायफ हूँ.../ haan mai tawaf hoon...



इस कविता को पढने के लिए क्लिक करें/ if u want to read this plz  click this image.................



















   हाँ मैं तवायफ हूँ.....

हाँ मैं तवायफ हूँ
हाँ मैं तवायफ हूँ 
मै हर महफ़िल की जीनत हूँ 
मै हर आशिक की चाहत हूँ
हाँ मै तवायफ़ हूँ 
मै नहीं तो दुनिया अधूरी लगे 
लोग लड़ते रहे और झगडते रहे 
गिद्ध बन कर एक-दूजे पर झपटते रहे
मैंने नीली-पीली आँखों में शैतानी देखी है 
हर चहरे पर अपनी एक सी कहानी देखी है
इस अलबेली दुनिया की एक अनोखी रवायत हूँ 

हाँ मै तवायफ़ हूँ 
हाँ मै तवायफ़ हूँ 
मैंने दूजों के खातिर हैं रातें जगीं
आईना जो दिखा तो मै ठगी सी लगी 
मेरी चौखट पर सबका आना जाना लगा 
मैंने हिंदू-मुस्लिम में कोई न फर्क रखा 
मैंने ज़माने  को खुशियाँ दी थी मगर 
इस जमाने को मेरी थी क्यों फिकर 
शायद किसी फकीर की बेमन सी कोई शिकायत हूँ 
हाँ मै तवायफ़ हूँ 
हाँ मै तवायफ़ हूँ 

haan mai tawayaf hoon
haan mai tawaf hoon

mai har mahfil ki  jinat hoon
mai har aashiq ki chahat hoon
haan mai tawayaf hoon

mai nahi toh duniya aadhoori lage
log ladte rahe aur jhagadte rahe
giddh bankar ek dooje  par jhaptate  rahe
maine neeli pili aankho mein shaitani dekhi hai
har chehre par apni ek si khahaani dekhi hai
iss albeli duniya ki ek anokhi rawayat hoon

haa mai tawayaf hoon
haan mai tawaf hoon
maine doojon ke khatir hain raate jagi
aaeena to jo dikha toh thagi si lagi
mere chaukhat par sabka aana jaana laga
maine hindu muslim mein na koi farq rakha
maine zamaane ko khushiyan di thi magar
iss zamaane ko meri thi kyu fiqar
shayad  kisi faqir ki beman si shikayat hoon
haan mai tawayaf hoon
haan mai tawayaf hoon

Post a Comment