Friday, August 13, 2010

आज़ाद परिंदे/aazaad parinde

कुछ आज़ाद परिंदे
जब बेबाक हवा में उड़ते हैं
मन हूक हूक कर जाता है
कि काश हम परिंदे होते
फैलाते अपने पंख
थकने तक उड़ते रहते
दोस्त बनाते, दाना चुगते
ची-ची करते गीत गाते
घर को आते
कम से कम  न होता दिल में कोई मलाल
और न होती संगीनियों से लैश
वो कटीले तारों वाली दीवाल
जहाँ दोनों तरफ वर्दी पहने
खादी के फरमानो पर चलने वाले पुतले खड़े हैं
पर जोश है कि उनका कम नहीं होता
अपनी माटी के लिए
वो जयकारे लगते नहीं थकते
और इन सब में कही खो जाता है
उन दीवानों का सपना,
जिसने सोने के उस परिंदे को  पंख दिए
और मुस्कुराते हुए इस जहाँ से अलविदा कह दिए
काश हमारे सीने में वो जज्बात जिन्दा होते
और हम सब मिलकर वही सोने का परिंदा होते
फिर ये मोती उन दीवानों कि याद में बिखर जाते
हम भी अपना जीवन इस देश के नाम कर जाते

नीरज पाल

kuch aazaad parinde
jab bebaak hawa mein udte hain
man hook hook kar jaata hai
ki kaash hum parinde hote
failate apne pankh
thakne tak udte rahte
dost banate, daana chugte
chi- chi karke geet gaate
ghar ko aate
kam se kam na hota dil mein koi malaal
aur na hoti vo sanginiyon se laish vo kateele taaron waali diwaar
jahan dono taraf wardi pahne
khaadi ke farmano par chalne wale putle khade hain
par josh hai ki unka kam hi nahi hota
apni maati ke liye vo jaykaare lagaate nahi thakte
in sab mein kahin kho jaata hai
jisne sone ke us parinde ko pankh diye
aur muskurate hue iss jahan se alwida kah diya
kash hamare seene mein vo zazbaaat zinda hote
aur hum sab milkar wahi sone ka parinda hote
ye moti un diwaano ki yaad mein bikhar jaate
hum bhi apna jiwan iss desh ke naam kar jaate

Neeraj Pal 
Post a Comment