Sunday, October 3, 2010

कमाल है/kamaal hai


बासी रोटी के कुछ टुकड़े
हाथो में एल्मुनियम का गन्दा कटोरा
तरकारी के कुछ रसीले आलू
जिन पर कुछ मक्खियाँ भिनभिना रही हैं
और बोल रही हों पहले हमे खाना है
वो मैले नन्हे हाथों से
उन्हें हटाने कि मासूम कोशिस
गिडगिडती हुई आवाज़ में
हँसने का प्रयास
अंग्रेजी के कुछ शब्दों को
बार बार दुहराते हैं
वो राजधानी में
पेट में हाथ फेरते है और
थेंक यू, थेंक यू बोलते है  
वो बचपन की आवाज़ है 
या किसी शातिर दिमाग की चाल है
ऐसे ना जाने कितने मेरे मन में सवाल हैं  
पर वो बेबस हैं, बदहाल हैं
जो भी हैं कमाल हैं

baasi roti ke kuch tukde

haaton mein alluminium ka ganda katora


tarkaari ke kuch raseele aaloo


jin par kuch makkhiyan bhinbhina rahi hain


aur bol rahin hon ki pahle hume khana hai


unhe hatane ki vo masoom koshis 


gidgidati hui awaaz mein 


hasne ka prayas 


angrezi ke kuch sabdon ko 


baar baar duhrate hain


vo raajdhaani mein 


pet mein haath ferte hain aur 


thank you! thank you! bolte hain


vo bachpan ki aawaz hai


ya kisi shatir dimaag ki chaal hai


aise na jaane mere man mein na jaane kitne sawaal hain


par vo bebas hain, badhaal hain


jo bhi hain kamaal hai

Post a Comment