Friday, February 27, 2009

हौसले/ hauslein

हौसले गर बुलंद हो तो
मुश्किले क्या चीज़ है
एक बार जो ठान लो तो
फासलें क्या चीज़ है
मंजिले भी आ जायेंगी करीब
तुम अगर जो चल कर देखो
तो तुम्हारे कदम के सामने
ये मंजिले क्या चीज़ है


hausle gar buland hon toh
mushkilein kya cheez hain
ek baar jo thaan lo toh
faaslein kya cheez hain
manzilein bhi aa jayengi kareeb
tum agar jo chal kar dekho 
toh tumhare qadam ke saamne
ye manzilein kya cheez hain
Post a Comment