Friday, February 27, 2009

कुर्ता/ kurta

एक बार की बात है भाई
बाल काट रहा था नाई
तभी एक कुत्ता लगा मेरे पीछे
वो धीरे धीरे मेरे कुर्ते को खीचे
समझ गया मै समझ गया मै
नाई का कुत्ता भी जानता है
कुर्ते वाले को अच्छी तरह से पहचानता है
मै समझा की आज गया मै
कुत्ता कुर्ता फाडेगा
मेरा नया खादी का कुर्ता
रुमाल बना कर मानेगा
तभी नाई बोला मेरे कान में
अगली बार कुर्ता पहन मत अइयो
मेरी दूकान में
मैंने पुछा क्यो भई
उसने कुत्ते की तरफ़ देखा , मुस्कुराया और बोला
अपना मुह खोला, और बोला
इसको नेतागिरी बहुत अच्छी तरह आती है
क्योकि इसकी और नेताओ की जाति बहुत मेल खाती है....



रचनाकाल :- 1998


(my first poem)

ek baar ki baat hai bhai
baal kaat raha tha nayee
tabhi ek kutta laga mere peeche
vo dheere dheere mere kurte ko kheeche
samjh gya mai samjh gya mai
naayee ka kutta bhi pahchanta hai
kurte wale ko achchi tarah janta hai
mai samjha ki aaj gya mai
kutta kurta fadega
mera naya khaadi ka kurta
rumaal banakar manega
tabhi nayee bola  mere kaan mein
agli baar kurta pahan mat aaiyo meri dukaan mein
maine pooch kyu bhai
vo kutte ki taraf dekh muskuraya
aur bola- apna muh khola
bola isko netagiri bahut achchi tarah aati hai
kuyki iski aur netaon ki jaati bahut mail khaati hai

year: 1998
Post a Comment