Thursday, July 28, 2011

सच्चाई या सपना/ sachchayee ya sapna


वो सबसे प्यारा सपना है 
धूप में चांदनी बरसाता है 
साँसों पर है उसकी हुकूमत 
सच होने को तरसाता है 
अब नींद गुमशुदा नयनो से 
पलक झपकते ले जाता है 
पुष्पों की दीवारों
मखमल की छत का बना हुआ
वो घर नहीं एक मंजिल है शायद 
या किसी फक्कड़ी सिकंदर की आरामगाह 
कुछ तो खिचाव है उसमें 
नहीं तो मै कहाँ 
और मेरा सपना कहाँ 
सपने कुछ ना कुछ हकीक़त के लिबास में आते हैं 
तभी तो फूलों से बनी वो दिवार जो बहुत कमजोर थी 
गिरने के लिए बेताब है 
और मुझे मखमल से उतना ही डर है
एक झोके में सब बिखर तो नहीं जायेगा 
हाय ये क्या हो जायेगा 
डर रहा हूँ अब तलक 
सच्चाई से या सपने से 
ये नहीं मालूम

vo sabse pyara sapna hai
dhoop mein chandni barsata hai
saanson mein hai uski huqumat
sach hone ko tarsata hai
ab neend gumshuda nayanon se
palak jhapakte hi le jaata hai
pushp ki diwaaron
makhmal ki chat ka bana hua
vo ghar nahi, ek manzil hai shayad
ya kisi fakkadi ki araamgah
kuch toh khichaw hai usmein
nahi toh mai kaha aur mera sapna kahan
sapne kuch na kuch haqiqat ke libas mein aate hain
tabhi toh foolon se bani vo diwar jo bahut kamjor thi
girne ke liye betaab hai
aur mujhe makhmal se dar hai ki
ek jhoke mein sab bikhar toh nahi jayega
hay ye kya ho jayega
dar raha hoon ab talak
sachchayee se ya sapne se
ye nahi maloom




Post a Comment