Thursday, June 23, 2011

पर सच तो ये है/ par sach toh ye hai

मुझे मालूम है 
तेरी सांसो की खनक में नाम मेरा शामिल है 
तेरे अश्को में दिखता है मेरा ही चेहरा 

तुझे भी पता है 
 कि दिल में तेरे नाम की चहल कदमी है 
ख्वाब मेरे हैं मगर तेरे सिवा कोई दिखता ही नहीं 

क्या करें 
कि जब मिलना मुमकिन ही नहीं 
और जिंदा रहने का कोई और बहाना मिलता ही नहीं 

                                           कितने मजबूर हैं हम 
                                           पर सच तो ये है 
                                           एक दूजे से कहाँ दूर हैं हम 


mujhe maloom hai
teri saanson ki khanak mein naam mera shamil hai
tere ashqon mein dikhta hai mera hi chehra


tujhe bhi pata hai
ki dil mein tere naam ki hi chahal qadmi hai
khawab mere hain magar tere siwa koi dikhta hi nahi
kya karein jab milna mumqin hi nahi aur 
zinda rahne ka koi bahana hi nahi


kitne mazboor hain hum 
par sach toh ye hai ki
ek dooje se kahan door hain hum

Post a Comment