Thursday, August 27, 2009

आओ शिकवे मिटायें ..../ Aao shikwe mitayee...


इस कविता को पढने के लिए क्लिक करें ...
if u want to read this plz click this image ...

आओ शिकवे मिटाएं हम मिलकर
प्यास दिल की बुझायें हम मिलकर

दिल में है जो जुबां पर आता नहीं
बात दिल की बताएं हम मिलकर

पूरी दुनिया वीरान लगती है
आओ इसको सजाएं हम मिलकर

खुशबू  गुलशन से खफा है शायद
फूल दिल के खिलाएं हम मिलकर

यूं तो परवाह नहीं है मौसम की
आओ बारिश कराएं हम मिलकर

बेवफाई का दौर आया है
प्रीत की रीत निभाएं हम मिलकर

इश्क से बढकर नहीं है कुछ भी
ये सबक सबको सिखाएं  हम मिलकर

नीरज पाल

aao shikwe mitayein hum milkar
pyaas dil ki bujhaye hum milkar

dil mein hai jo zuban par aata nahi
baat dil ki batayein hum milkar

poori duniya viraan lagti hai
aao isko sazayein hum milkar

khusboo gulshan se khafa hai shayad
phool dil ke khilayein hum milkar

yoon toh parwah nahi hai mausam ki
aao barish karayein hum milkar

bewafayee ka duar aaya hai
preeti ki reet nibhayein hum milkar

ishq se badkar nahi hai kuch bhi
ye sabak sabko shikhayein hum milkar

Neeraj pal
Post a Comment